Meghla(मेघला)

'मेघला' हिंदी पाठ्यक्रम श्रंखला 'राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005 (एन. सी. एफ.) के अलोक में नवीन पाठ्यक्रम पर आधारित है इसमें पठन-पाठन की प्रक्रिया उत्साहवर्धक अवं सार्थक बनाने के लिए विद्यार्थियों के कोमल मन, आयु, रूचि एवं बोध स्टार को ध्यान में रखकर पाठों का चयन किया गया है। खेल-खेल में भाषा और व्याकरण का समुचित और सुबोध शैली में अध्ययन कराना इसकी सबसे बड़ी विशेषता है।

पाठों के अंत में शब्दार्थ, पाठ आधारित प्रश्न, भाषा-ज्ञान संबंधी प्रश्न, अनुभव विस्तार से गए गए है। इसके साथ गतिविधियों के अंतर्गत 'यह भी बताइये, पाठ से आगे, कविता से आगे, परियोजना निर्माण, जीवन कौशल तथा लेखक परिचय' इनकी अन्य विशेषताएँ हैं। इस श्रृंखला में केंद्रीय हिंदी निदेशालय मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सर्कार द्वारा मानकीकरण का पालन किया गया है। इसमें पाठों के साथ 'स्व-अभ्यास हेतु' शीर्षक के अंतर्गत विद्यार्थी को और अधिक ज्ञानार्जन का अवसर दिया गया है।

कक्षा 1 से 8 तक

  • प्रस्तुत पुस्तक-श्रृंखला में बच्चो को सरल, सुगम एवं सरस रूप से पढ़ाने का प्रयास किया गया है।
  • बच्चो को उचित ढंग से वर्णों को लिखने का अभ्यास कराया गया है।
  • पुस्तकों में बच्चों को खेल-खेल में भाषा और व्याकरण का समुचित और सुबोध शैली में अध्ययन कराया गया है।
  • इस श्रृंखला की हिंदी की प्रत्येक पुस्तक में स्वर एवं व्यंजन का प्रयोग सिखाते हुए सम्बंधित गतिविधियाँ कराई गई हैं जिससे बच्चे शब्दों में तथा व्यक्यों में इनका प्रयोग कर सकेंगे।
  • पुस्तकों में मात्राओं का ज्ञान कराया गया है साथ ही उनसे जुड़े अभ्यास प्रश्न भी दिए गए है। इन प्रश्नों द्वारा बच्चे शब्दों में मात्राओं को सही जगह लगाना सीखेंगे।
  • पुस्तकों में विभिन्न प्रकार के क्रियाकलाप सम्मिलित है जिससे बच्चों की स्मरण शक्ति तीक्ष्ण होगी।
  • बच्चों को दो वर्णों, तीन वर्णों तथा चार वर्णों के शब्दों से शुरू करते हुए वाक्य लिखने का अभ्यास कराया गया है।
  • पुस्तकों में बच्चों के लिए सरल शब्दों में कहानियाँ, कविताएँ एवं गतिविधियाँ भी दी गई है।
  • इस श्रृंखला में शिक्षकों के लिए शिक्षण संकेत एवं सुझाव का समावेश किया गया है।